कावेरी विवाद पर हिंसा, मुख्यमंत्री ने बुलाई कैबिनेट बैठक

0
564

बेंगलुरू।
तमिलनाडु को कावेरी नदी का पानी देने के सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ कर्नाटक में पिछले एक सप्ताह से जारी विरोध प्रदर्शन हिंसक होता जा रहा है। उग्र प्रदर्शनकारियों ने राजधानी बेंगलुरु में 40 बसों में आग लगा दी जिसके बाद वहां धारा 144 के साथ कर्फ्यू लगा दिया गया है। वहीं स्थिति को भांपते हुए मुख्यमंत्री सिद्दारमैया ने आज कैबिनेट की बैठक बुलाई है।
कर्नाटक में हिंसक हो रहे प्रदर्शन को देखते हुए मुख्यमंत्री सिद्दारमैया ने आज अपने आवास पर हाई लेवल मीटिंग बुलाई है। इस मीटिंग में कांग्रेस के कई बड़े नेता शामिल होंगे। प्रदेश में जारी प्रदर्शन का असर रोडवेज पर देखते हुए सीएम ने रेल मंत्री सुरेश प्रभु से कर्नाटक से केरल तक दो स्पेशल ट्रेन चलाने का आग्रह किया है, जिससे केरल के लोग अपने मुख्यमंत्री से मिल सके।
सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को कर्नाटक को तमिलनाडु के लिए 20 सितंबर तक कावेरी नदी का 12 हजार क्यूसेक पानी रोजाना छोड़ने का आदेश दिया। कोर्ट के इस फैसले के बाद दोनों राज्यों के बीच जारी तनाव ने हिंसक रुप ले लिया है। बेंगलुरु में देर शाम हेगनाहल्ली इलाके में प्रदर्शन के दौरान पुलिस फायरिंग में एक व्यक्ति की मौत हो गई, जबकि पांच लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैं।
पुलिस महानिरीक्षक उमेश कुमार ने बताया कि बेंगलुरु के 16 थाना क्षेत्रों में कर्फ्यू लागू कर दिया गया है। कुमार ने बताया कि इसके अलावा शहर के अन्य क्षेत्रों में आपराधिक दंड संहिता की धारा 144 के तहत प्रतिबंध लागू कर दिए गए। उन्होंने कहा कि पुलिस बल को मजबूत करने और स्थिति से निपटने के लिए अतिरिक्त अर्धसैनिक बलों की मांग की गई है।
राज्य में कई जगहों पर तमिलनाडु के पंजीकृत कई वाहनों को फूंक दिया और कई दुकानों में तोड़फोड़ की। पुलिस ने बताया कि इस संबंध में करीब 200 लोगों को हिरासत में लिया गया है और सबसे ज्यादा प्रभावित केंगेरी इलाके में त्वरित कार्रवाई बल के जवानों को तैनात किया गया है।
कर्नाटक के गृह मंत्री जी परमेश्वर ने बताया कि बेंगलुरु में उग्र प्रदर्शनकारियों ने तमिलनाडु के पंजीकृत 27 वाहनों को फूंक दिया। कानून एवं व्यवस्था बनाए रखने के लिए त्वरित कार्रवाई बल के अलावा केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल की 10 कंपनियों और पुलिस की 182 कंपनियों को तैनात किया गया है।
केन्द्र सरकार ने हिंसक स्थिति को काबू में करने के लिए विशेष दंगा रोधी अर्द्धसैन्य बल के एक हजार जवानों को भेजा है। केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री राजनाथ सिंह ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्दारमैया और तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता से टेलीफोन पर बात की और हालात का जायजा लिया। श्री सिद्दारमैया ने लोगों से शांति बनाने की अपील की है।
प्रदर्शनकारियों ने तमिलनाडु के 50 से ज्यादा ट्रकों, निजी लक्जरी बसों और अन्य वाहनों को आग के हवाले कर दिया। कई जगहों पर दमकलकर्मियों को आग पर काबू पाते हुए देखा जा सकता है। बेंगलुरु और मैसूरु में स्थिति तनावपूर्ण है और वहां धारा 144 लागू कर दी गई है। पुलिस ने उग्र भीड़ को तितर बितर करने के लिए लगातार लाठीचार्ज करने और आंसू गैस के गोले छोड़ने का आदेश दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here