विश्व ह्रदय रोग दिवस: हर साल 50 लाख को हार्ट अटैक

0
835

 डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में हर साल लगभग 50 लाख लोग हार्ट अटैक का शिकार हो रहे हैं। इनमें से 15 फीसदी लोगों की हार्ट अटैक होते ही मौत हो रही है। यह आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है। वहीं 15 फीसदी लोगों की मौत पहले अटैक में हो रही है।

कार्डियोलॉजिस्ट बताते हैं कि हार्ट में चार वाल्व में से अगर एक वाल्व भी सिकुड़ जाता है तो उसे बदलना पड़ता है, मगर गरीबों के लिए वैलून वाल्वोप्लास्टी वरदान है। इससे कम खर्च में बैलून के जरिए वाल्व को बिना सर्जरी के फुलाया जाता है। इससे 10-12 साल तक वाल्व चलता है। अब लीड लैस पेसमेकर भी आ गए हैं। नई तकनीक के तहत पांच मिनट के अंदर इने मेजर कट लगाकर हार्ट में लगा सकते हैं। इससे तार की दिक्कत नहीं होती। पेसमेकर इनवर्टर की तहत दिल की धड़कनों को बनाए रखने का काम करता है।

ह्रदय रोग के कारण

– आनुवांशिकता
– मानसिक तनाव
– धूम्रपान व तम्बाकू का सेवन
– मधुमेह व उच्च रक्त चाप
– मोटापा
– अनियमितव अस्वस्थ खान-पान

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY