महाराष्ट्र में किसानों का प्रदर्शन उग्र

0
116

नई दिल्ली,  किसान सेना ने फसल के उचित दाम नहीं मिलने पर 1 से 10 जून तक मंडियों में किसानों द्वारा माल नहीं लाने का आंदोलन शुरू किया है। इस आंदोलन में दूध उत्पादक भी शामिल हैं।किसानों को रोकने के लिए पुलिस को लाठी चार्ज करना पड़ा। इसी तरह के प्रदर्शन की खबर राज्य के अलग-अलग हिस्सों से आ रही है।

किसान क्रांति जन आंदोलन कोर कमेटी के मेंबर धनंजय जाधव ने बताया कि, “सीएम देवेंद्र फडणवीस ने मंगलवार देर रात किसानों को बातचीत के लिए अपने बंगले पर बुलाया था। करीब दो घंटे तक वो यह गिनाते रहे कि उनकी सरकार ने किसानों के लिए क्या-क्या किया। हमने कर्जमाफी पर फैसला करने को कहा तो उन्होंने एक महीने का वक्त मांगा। सीएम ने पक्का वादा नहीं किया, लिहाजा हमने हड़ताल पर जाने का फैसला किया।”जाधव का दावा है कि हड़ताल में 80% किसान शामिल होंगे। बता दें कि यह पहली बार है जब पूरे महाराष्ट्र में किसान एक साथ हड़ताल पर गए हैं।महाराष्ट्र में किसानों के प्रदर्शन ने उग्र रूप ले लिया है। नासिक के येवला में सरकार से नाराज किसानों ने एक मिनी ट्रक को आग के हवाले कर दिया।किसानों ने दूध के टैंकर को रोक उसका सारा दूध सड़क पर बहा दिया। फलों की गाड़ियां रोककर उसे पलट दिया।

राज्य की सभी मंडियों के बाहर हजारों की संख्या में किसान प्रदर्शन कर रहे हैं। वहां फल और सब्जियां लेकर आने वाली गाड़ियों पर पथराव कर रहे हैं।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY