सातवें दिन होती है मां कालरात्रि की पूजा

0
34

पं,गणपति झा
नई दिल्ली,नवरात्र के सातवें दिन पूजी जाने वाली अत्यन्त भयावह स्वरूप वाली मां कालरात्रि की पूजा की जाती है। ये अपने भक्तों के कष्टों को तुरंत हरती है और उन पर सुख की वर्षा करती है। ये महाकाली की भांति अत्यन्त क्रोधातुर दिखाई देती है और अपने भक्तों की ओर आंख उठाने वाले किसी भी संकट को तुरंत समाप्त करती है। इनकी पूजा के पश्चात निम्न मंत्र का 101 बार जप करना सौभाग्य लाता हैः
या देवी सर्वभूतेषु मां कालरात्रि रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमरू।।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY